Uttra news
एसएसजे विश्वविद्यालय परिसर में "लोकपर्व एवं पर्यावरण संरक्षण" पर आयोजित हुई विचार गोष्ठी
 
अल्मोड़ा, 21 जुलाई 2021

सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय परिसर में हरेला महोत्सव के मौके पर "लोकपर्व एवं पर्यावरण संरक्षण" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित की गई।  


योग विभाग की छात्राओं ने स्वागत गीत और सरस्वती वंदना की प्रस्तुति दी। कुलपति प्रो.भंडारी ने हरेला महोत्सव के संयोजक प्रो. जगत सिंह बिष्ट को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।


मुख्य अतिथि बिशन सिंह चुफाल, रघुनाथ सिंह चौहान, कार्यक्रम अध्यक्ष प्रो एन. एस.भंडारी, मुख्य वक्ता प्रो. डी. एस. पोखरिया, त्रिभुवन गिरी, प्रो. नीरज तिवारी, हरेला महोत्सव के संयोजक प्रो. जगत सिंह बिष्ट, गोष्ठी के संयोजक डॉ. नवीन भट्ट आदि ने दीप प्रज्ज्वलन व सरस्वती के चित्र पर फूल चढ़ाकर गोष्ठी का उद्घाटन किया। 


गोष्ठी को मुख्य अतिथि के तौर संबोधित करते हुए उत्तराखंड सरकार के पेयजल मंत्री बिशन सिंह चुफाल ने कहा कि पर्यावरण में जिन कारणों से अंतर आ गया है उस पर अध्ययन किया जाना आवश्यक है। कहा कि अनियोजित विकास के फलस्वरूप पर्यावरण में निरंतर क्षरण हुआ है जो चिंतनीय है। 


विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान ने सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय में स्थापित किये गए हरेला पीठ तथा स्वामी विवेकानंद शोध एवं अध्ययन केंद्र के लिए भी 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की। 


कार्यक्रम के अध्यक्ष कुलपति प्रो. एन. एस भंडारी ने कहा कि हरेला पर्व हमारी संस्कृति का एक महत्त्वपूर्ण अंग है। कुमाऊंनी संस्कृति में पर्यावरण को संरक्षण प्रदान करने का संदेश मिलता है।  यहां का जनमानस प्रकृति के काफी नजदीक है। जिस तरह से वनों का कटान बढ़ रहा है, अनियोजित विकास हो रहा है, उससे पर्यावरण में गिरावट हुई है।


हरेला पीठ और स्वामी विवेकानन्द शोध एवं अध्ययन केंद्र के संबंध में उन्होंने कहा कि ये पीठ सकारात्मक सोच पैदा करने में अपनी अहम भूमिका निभाएंगे। हम इन केंद्रों के लिए आगे भी प्रयास करेंगे और वृक्ष लगाने के लिए लोगों को प्रेरित करेंगे। आने वाली पीढ़ियों को परंपरागत ज्ञान, लोक संस्कृति, त्योहार,पर्व, पर्यावरण को बताने की आवश्यकता है। 


मुख्य वक्ता प्रो. डी. एस. पोखरिया ,समाजसेवी त्रिभुवन गिरी महाराज, परिसर निदेशक प्रो. नीरज तिवारी,गोष्ठी के संयोजक डॉ. नवीन भट्ट आदि ने भी गोष्ठी में अपने विचार रखें। इस मौके पर संजय बिनवाल, कविता अधिकारी, आँचल राज, समीक्षा उप्रेती, मीनाक्षी पांडे आदि काव्य पाठ किया। वही संगीता रौतेला, भावना अधिकारी, ललिता तोमक्याल, संजना बिनवाल, गीतांशी, हिमांशु, मनीष, अजय ने योगासन की प्रस्तुति दी।  


इस अवसर पर शोध एवं प्रसार निदेशक और हरेला महोत्सव के संयोजक प्रो. जगत सिंह बिष्ट, डॉ. देवेंद्र सिंह बिष्ट, डॉ. बिपिन जोशी, भा.ज.पा. जिलाध्यक्ष रवि रौतेला, डी.सी.बी. अध्यक्ष ललित लटवाल, सभासद मनोज जोशी,  विनीत बिष्ट, अजय वर्मा, शैलेन्द्र साह, डॉ. ममता पंत, डॉ. धनी आर्या, ललित जोशी, गिरीश अधिकारी, गोविंद मेर, लल्लन कुमार सिंह, मुरली कापड़ी, हेमलता अवस्थी, दिनेश पटेल, ललिता तोमक्याल, भावना अधिकारी, संदीप नयाल सहित विश्वविद्यालय शिक्षक, कर्मचारी, छात्र-छात्राएं, योग विभाग की छात्राएं, एनसी सी 27 गर्ल्स एवं 77 बटालियन के कैडेट्स शामिल थे। गोष्ठी का संचालन मोनिका बंसल ने किया।

सोशल मीडिया में आप हमसे फेसबुकटविटर के माध्यम से भी हमसे जुड़ सकते है। इसके साथ ही आप हमें  गूगल न्यूज पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है। हमारे वाटसप ग्रुप में जुड़ने के लिये कृपया इस लिंक को क्लिक करें

खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े ।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now