Uttra news
uttarakhand -ऐन बरसात के सीजन में तोड़ डाला विधवा का मकान, लाचार महिला ने दी प्राण त्यागने की चेतावनी
 
 

उत्तरकाशी जनपद में ऐन बरसात के सीजन में एक विधवा का मकान तोड़ दिय गया। यह हैरान कर देने वाला मामला विकासखंड डुण्डा के ग्राम टिपरा का हैं। आरोप है कि ग्राम प्रधान व ग्रामीणों ने लिंक मार्ग चौड़ीकरण के नाम पर एक अनुसूचित जाति की विधवा महिला का मकान तोड़ दिया। हैरानी की बात यह है कि मकान तोडऩे से पूर्व पीडि़त को कोई नोटिस या आदेश की कॉपी भी नहीं दी गई। 


अपना आशियाना उजड़ने से घटना से हताश और निराश अनुसूचित जाति की विधवा महिला और उसकी सास ने बच्चों सहित अपने आवास पर ही आमरण अनशन की चेतावनी दी है। उत्तराखण्ड के उत्तरकाशी में हुई इस घटना की उत्तरकाशी से लेकर देहरादून तक चर्चा हो रही है। 

शांता देवी पत्नी स्व. भरपूर दास, ग्राम टिपरा, पो. जुणगा, विकासखंड डुण्डा, उत्तरकाशी ने जिलाधिकारी उत्तरकाशी को भी इस बारे में अपनी शिकायत दर्ज कराई है। जिलाधिकारी को की गई शिकायत में कहा गया है कि ग्राम पंचायत टिपरा में जिला पंचायत द्वारा कुमारकोट से सुरी धार मन्दिर तक लिंक मार्ग की योजना स्वीकृत की गई। और इस कार्य को ग्राम प्रधान सीमा गौड़ की निगरानी में करवाया जा रहा है। रास्ते के  चौड़ीकरण के लिए ग्राम प्रधान ने उन्ही के द्वारा गांव की कुछ महिलाओं को काम पर बुलाकर उक्त मार्ग के पास स्थित उसके घर को बिना किसी मुवावजे व बिना किसी आदेश या नोटिस और बिना किसी प्रशासनिक अधिकारी की देखरेख में जबरन दबंगई दिखाकर मकान को तोड़ दिया। महिला ने लोगों पर उसके और उसकी सास के साथ  धक्का-मुक्की और अभद्रता करने का आरोप भी लगाया हैं।


शांता देवी का कहना है कि उनके मकान से उस रास्ते में कोई व्यवधान नहीं था, जिस लिंक मार्ग के निर्माण कार्य की बात हो रही है, वह पहले से ही काफी चौड़ा है और कई वर्षों से इस रास्ते से घोड़े, खच्चर, मवेशी आराम से आते जाते रहे है। 
आरोप लगाते हुए कहा कि लोगों के द्वारा हम पर अनेक प्रकार से दबाव बनाया गया और यह झांसा दिलाया गया कि आप लोगों को किसी योजना से लाभान्वित करेंगे, लेकिन जब उन्होने इसके लिये मना कर दिया तो प्रधान सीमा गौड़ ने गांव से बुलाई गयी महिलाओं से जबरन उसके मकान की दीवारें तुड़वा डाली।


महिला ने कहा कि वर्षों मेहनत मजदूरी कर उसनेथोड़ा थोड़ा पैसा इकट्ठा करके अपना घर बनाया था, और जिसे ग्राम प्रधान द्वारा जबरन तोड़ दिया गया और अब वह अपने परिवार के साथ बेघर हो गयी है। पीडि़त ने बताया कि उसकी सास और वह दोनों ही विधवा है। दोनों की आजीविका का कोई साधन नहीं है।और उनके साथ हुई घटना उसकी मेरी सास और उसको आघात पहुंचा है। ग्राम प्रधान और उनके साथ आई महिलाओं ने उन दोनों के साथ धक्का-मुक्की की उससे मेउसकी सास का शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ गया है।


महिला ने जिलाधिकारी से उसे न्याय दिलाने और न्याय ना मिलने की स्थिति में अपने घर पर ही  छोटे-छोटे बच्चों व बूढ़ी सास सहित आमरण अनशन पर बैठकर अपने प्राण त्यागने की चेतावनी दी है।  


इस बारे में जब टिपर गौर की ग्राम प्रधान सीमा गौड़ से जब पूछा गया कि बिना नोटिस व आदेश के आपने एक असहाय महिला का मकान कैसे तुड़वा दिया तो उनका कहना था कि महिला पहले राजी हो गई थी और अब मुकर रही है।


 जुणगा क्षेत्र के राजस्व उपनिरीक्षक अरविंद पंवार से पूछे जाने पर उन्होने बताया कि   यह मामला रेग्युलेर पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया है। इस मामले में प्रधान सीमा गौड़ आदि के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। 


सवाल यह है कि अनु.जाति की एक असहाय महिला के मकान तोडऩे से पूर्व ग्राम प्रधान द्वारा प्रशासन को सूचित क्यों नहीं किया गया।  जब पीडि़त द्वारा मकान तोडऩे के वक्त अपनी सास और छोटे बच्चों के साथ इसका कड़ा विरोध जताया गया तो फिर काम को वहीं पर रुकवाने की बजाय जबरन मकान की दीवारों को क्यों तोड़ दिया गया। इससे भी बड़ा सवाल यह है कि ग्राम प्रधान ग्राम पंचायत के मुखिया होने के नाते सबसे पहले शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए अधिकृत होते हैं। जब गांव में इस तरह का विवाद उत्पन्न हो गया तो फिर प्रधान के नेतृत्व में किसी भी गरीब व लाचार के साथ इस तरह से जबर्दस्ती कैसे हो सकती है ?


बहरहाल, पीडि़त विधवा महिला, उसकी बुजुर्ग सास व छोटे बच्चों के सम्मुख बरसात के मौसम में रहने का संकट खड़ा हो गया है। अब देखना यह है कि राजस्व पुलिस से ट्रांसफर होकर रेग्युलर पुलिस में गई जांच के बाद पीडि़त महिला को कब तक न्याय मिल पाता है ?

सोशल मीडिया में आप हमसे फेसबुकटविटर के माध्यम से भी हमसे जुड़ सकते है। इसके साथ ही आप हमें  गूगल न्यूज पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है। हमारे वाटसप ग्रुप में जुड़ने के लिये कृपया इस लिंक को क्लिक करें

खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े ।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now