Uttra news
pithoragarh cloud brust update : लापता दंपति की मलबे में खोजबीन बंद
धारचूला के ग्राम जुम्मा में भूस्खलन के बाद 7 लोग हो गए थे लापता, पांच के शव हो चुके बरामद 
 
 

पिथौरागढ़। तहसील धारचूला के आपदाग्रस्त ग्राम जुम्मा में भूस्खलन में लापता लोगों की खोजबीन का कार्य बृहस्पतिवार से बंद कर दिया गया है। इस घटना में पांच लोगों के शव अब तक बरामद कर लिए गए हैं, जबकि एक दंपति का अब भी पता नहीं चल पाया है।  क्षेत्र में प्रभावितों के लिए राहत कार्य जारी हैं।
   

गौरतलब है कि विगत 29-30 अगस्त की रात धारचूला के जुम्मा गांव में अतिवृष्टि के बीच भूस्खलन से भूस्खलन से भारी नुकसान हुआ था। जिससे जुम्मा के तोक जामुनी और सिरौउडियार में आधा दर्जन से अधिक मकान जमींदोज हो गए जबकि 7 लोग लापता हो गए। अगले दिन राहत बचाव कार्य शुरू हुआ जिसमें तीन सगी बहनों संजना उम्र 15 वर्ष, रेनू 11वर्ष और शिवानी उम्र 9 वर्ष पुत्री जोगा सिंह सहित सुनीता देवी उम्र 22 वर्ष पत्नी दीपक सिंह के शव बरामद कर लिये गए थे।

घटना में लापता पति-पत्नी चंदन सिंह पुत्र किशन सिंह, हाजरी देवी पत्नी चंदन सिंह के साथ ही पार्वती देवी पत्नी लाल सिंह का 30 अगस्त को भी पता नहीं चल पाया। जबकि इस घटना में घायल नरसिंह पुत्र लाल सिंह, द्रोपती देवी पत्नी शोबन सिंह को उसी दिन स्वास्थ्य केंद्र धारचूला भेजा गया। बीती  31 अगस्त को रेस्क्यू के दौरान पार्वती देवी उम्र 62 वर्ष का शव भी बरामद कर लिया गया। लापता पति-पत्नी की खोजबीन के लिए 1 सितंबर की सायं तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। 
 

उप जिलाधिकारी धारचूला एके शुक्ला ने बताया कि घटना में लापता हुए दंपति का बुधवार शाम तक चले रेस्क्यू अभियान में पता नहीं लग पाया, लेकिन दोनों व्यक्तियों का बिस्तर आदि मलबे से बरामद हुआ है। मलबे से पटे क्षेत्र में जहां तक संभावना थी, मलबा खुदाई के साथ ही डॉक स्क्वायड की मदद से भी उनकी खोजबीन का प्रयास किया गया, लेकिन पति-पत्नी का पता नहीं चल पाया। इस दंपति के परिवार में उनका एक बेटा है जो पिथौरागढ़ महाविद्यालय में पढ़ता है।

बुधवार शाम लापता व मृत लोगों के परिजनों के साथ ही जुम्मा के ग्राम प्रधान ने भी अनुरोध कर लिखित दिया है कि अब खोजबीन कार्य बंद कर दिया जाए। यही नहीं जगह-जगह खुदाई से मलबा बहकर अन्य घरों तक भी पहुंचने व भूस्खलन की आशंका है। जिसके फलस्वरूप रेस्क्यू कार्य रोक दिया गया है। जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने भी खोज व बचाव कार्य रोककर सभी टीमों को वापसी के लिए निर्देशित किया है।

विधायक धामी ने क्षेत्र में क्षतिग्रस्त रास्तों की मरम्मत के लिए 10 लाख देने की घोषणा की
 

एसडीएम शुक्ला ने बताया कि रेस्क्यू कार्य में पुलिस टीम, 14 फायर सर्विस कर्मी, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ और एसएसबी की टीमें थी। क्षेत्र में प्रभावितों को राशन, दवाई व कपड़े आदि उपलब्ध कराने का कार्य फिलहाल जारी है। क्षेत्रीय विधायक हरीश धामी भी बुधवार को जुम्मा पहुंचे और हालात का जायजा लेने लोगों से मुलाकात के बाद क्षेत्र में क्षतिग्रस्त रास्तों की मरम्मत के लिए 10 लाख रुपये देने की घोषणा की है। इधर प्रशासन के अनुसार इस घटना में लापता लोगों को लेकर मजिस्ट्रियल जांच के बाद आगे की कार्यवाही की जाएगी

सोशल मीडिया में आप हमसे फेसबुकटविटर के माध्यम से भी हमसे जुड़ सकते है। इसके साथ ही आप हमें  गूगल न्यूज पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है। हमारे वाटसप ग्रुप में जुड़ने के लिये कृपया इस लिंक को क्लिक करें

खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े ।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now