ये हैं कांग्रेस की दूसरी पक्ति के बड़े रणनीतिकार, विषम परिस्थितियों में भी कई बार दिखाई है अपनी उपयोगिता

उत्तरा न्यूज अल्मोड़ा। संगठन में नेतृत्व की कमी से जूझ रही कांग्रेस को अल्मोड़ा में कार्यकर्ताओं की एक टीम ने बड़ा सहारा दिया है। यह टीम वरिष्ठ सदस्यों के साथ जहां तालमेल बनाने में सक्षम है वहीं अपने स्तर से त्वरित और सटीक रणनीति बनाने में भी कारगर साबित हुई है।

फिलहाल यह टीम अल्मोड़ा नगर क्षेत्र में काफी सक्रियता से काम कर रही है इसलिए इनकी मेहनत का फल स्थानीय स्तर पर ही अधिक दिख रहा है। राजनीतिक रूप से सबसे पुराने संगठन कांग्रेस में अल्मोड़ा नगर क्षेत्र में दूसरी पंक्ति के बड़े रणनीतिकार उभर कर सामने आए हैं। ​इस टीम में इनके कई सहयोगी भी शामिल हैं जो छोटे स्तर पर ही सही कई बार बड़ा काम कर संगठन को दिखा चुके हैं। इसमें युवा, वरिष्ठ और परिवक्व उम्र के कई कार्यकर्ता शामिल हैं। लेकिन जो लोग इनका नेतृत्व कर रहे हैं उनकी कांग्रेस के सांगठनिक स्तर पर भी कई बार सराहना हो चुकी है।

इनमें मुख्य नाम जो सामने आते हैं वह हैं कांग्रेस नगर अध्यक्ष पूरन रौतेला, सहकारिता क्षेत्र में बारीक पकड़ रखने वाले दीप डांगी, महामंत्री पद पर रह चुके परितोष जोशी, मनोज पाठक, उपाध्यक्ष पद पर रह चुके तारा चन्द्र जोशी,और कंडारकुंआ क्षेत्र के अध्यक्ष गजेन्द्र फर्त्याल । इसके अलावा इन सभी की अपनी एक टीम है। और कई युवा और सक्रिय कार्यकर्ता इनसे जुड़े हुए हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि यह लोग ​पूरी टीम के साथ जहां समन्वय बनाने में सक्षम हैं वहीं बुजुर्ग और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के साथ अच्छी ट्यूनिंग रखते हैं।

वरिष्ठ कार्यकर्ताओं द्वारा बनाई गई रणनीति यदि इनके सामने रख दी जाय तो इनकी टीम बेहद चतुराई से उसपर अमल करते नजर आते हैं।

बात करते हैं। 2018 में हुए निकाय चुनावों की प्रदेश में दूसरे दल की सरकार होने के अलावा संगठन में हुई बगावत के बाद इन दूसरी पंक्ति के नेताओं ने अपने वरिष्ठ और अन्य नेताओं के साथ सामंजस्य बनाकर कांग्रेस की कठिन लग रही जीत को आसान कर दिया। इसके अलावा दुग्ध संघ के चुनावों में अल्मोड़ा में कांग्रेस का बोर्ड गठित हो गया। और अब जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनावों में जिस प्रकार बड़े नेताओं की बनाई कार्ययोजना को नई टीम ने अपने साथियों और अन्य कार्यकर्ताओं के साथ जीत के जश्न में बदला उसके बाद कांग्रेस के कई नेता इस टीम की सराहना करने लगे हैं। कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी राहत की बात यह है कि युवा और वरिष्ठ कांग्रेस कार्यकर्ताओं की यह टीम अन्य कार्यकर्ताओं में भी लोकप्रिय है। और पा​र्टी के अन्य नेताओं से सामंजस्य बनाने में यह टीम इस बार भी कारगर सिद्ध हो रही है।

यह पहली बार हुआ जब कांग्रेस कैंप में बन रही रणनीति बाहर लीक नहीं हुई,अगला स्टेप क्या होगा यह या तो बड़े रणनीतिकार और वरिष्ठ नेता ही जानते थे या फिर यह टीम। इससे भी सकारात्मक बात यह हुई ​कि किसी भी पदधारी व्यक्ति की ओर से कोई अनाप शनाप बयानबाजी इस दौरान नहीं की गई।

हालांकि कांग्रेस की यह टीम केवल शहर क्षेत्र में ही अब तक कारगर हुई है। लेकिन संगठन को एक अच्छा उदाहरण इस टीक के कार्यों से ​मिला है। टीम से सभी सदस्यों और इनके साथियों के बीच जिलाध्यक्ष पीतांबर पांडे, पूर्व विधायक मनोज तिवारी, वरिष्ठ नेता और विधायक गोविंद सिंह कुंजवाल और दूर दराज में संगठन का दायित्व निभा रहे कार्यकर्ताओं में भी अच्छा तारतम्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: